गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु: गुरुर्देवो महेश्वरः ।
गुरु साक्षात परब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ।।
कर्ता करे न कर सके गुरु किये सो होय ।
सात द्वीप नव खण्ड में गुरु से बड़ा न कोय ।।
सारे तीरथ धाम आपके चरणों में ।
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणों में ।। -(2)
हृदय में माता गौरी लक्ष्मी
कंठ शारदा माता हैं -(2)
जो भी मुख से वचन कहें
वो वचन सिद्ध हो जाता है -(2)
है गुरु ब्रह्मा ,है गुरु विष्णु, है शंकर भगवान आपके चरणों में -(2)
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणों में -(2)
सारे तीरथ धाम आपके चरणों में
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणों में -(2)
जनम के दाता मात-पिता हैं आप करम के दाता हैं -(2)
आप मिलाते हैं ईश्वर से आप ही भाग्य विधाता हैं -(2)
दुखिया मन को , रोगी तन को मिलता है आराम आपके चरणों में -(2)
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणों में (2)
सारे तीरथ धाम आपके चरणों में
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणों में(2)
निर्बल को बलवान बना दो मूरख को गुणवान प्रभो (2)
देव ,कमल और वंशी को भी ज्ञान का दो वरदान प्रभो -(2)
हे महाज्ञानी , हे महादानी,
रहूँ मैं सुबहो शाम आपके चरणों में -(2)
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणों में -(2)
सारे तीरथ धाम आपके चरणों में हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणों में (2) (3)

Comments are closed.